जो व्यक्ति हर वक्त दुःख का रोना रोता है,

उसके द्वार पर खड़ा सुख़ बाहर से ही लौट जाता है।